बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, December 15, 2017

रवैया


   जब मैं बाइबल कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था, तो साथ ही अपने मित्र चार्ली के साथ एक फर्नीचर स्टोर में काम भी करता था। हम दोनों एक गृह सज्जा करने वाले के साथ मिलकर कार्य करते थे; जब हम गाड़ी से फरनीचर उतार कर घर में लगा रहे होते थे, वह घर में रहने वालों के साथ बातचीत कर रहा होता था। अकसर हमें फरनीचर कई मंज़िल ऊपर चढ़ाना होता था। मैं और चार्ली बहुधा यह सोचते थे कि कितना अच्छा होता यदि हमारा कार्य उस गृह-सज्जा करने वाले के जैसा होता।

   मिस्त्र की गुलामी से निकलकर, कनान देश पहुँचने तक इस्त्राएल को 40 वर्ष की जंगल की यात्रा से होकर निकलना पड़ा। इस दौरान याजकीय कबीले लेवी में से तीन कुल, कहातियों, गेर्शोनियों, और मरारियों को परमेश्वर की आराधना के तंबू को उठाने-लगाने की सेवा सौंपी गई थी। जब भी इस्त्राएल को यात्रा करनी होती थी, उनका काम था तंबू को खोलने और यात्रा में ले जाने के लिए तैयार करने का; और जब इस्त्राएल कहीं पड़ाव डालकर रहता था इन्ही कुलों के यही लोग तंबू को वापस खड़ा करते थे। उनका कार्य यही था, तंबू को उतारना, अगले स्थान तक लेकर जाना, वहाँ उसे खड़ा करना, और यात्रा के अगले चरण में इसी प्रक्रिया को फिर से दोहराना। उनके कार्य का सीधा सा विवरण था, "...सामान ढ़ोने के लिये उन को सौपा जाए..." (देखें गिनती 4:32)।

   मैं सोचता हूँ कि तंबू यह सेवकाई करने वाले ये लोग क्या कभी वेदी पर बलिदान चढ़ाने और मन्दिर में धूप आदि जलाने वाले पुरोहितों (पद 4-5, 15) को लेकर यह सोचते होंगे कि काश वह कार्य उन्हें भी मिल जाता! बलिदान और धूप वाला यह कार्य उन्हें अधिक सरल और प्रतिष्ठित लगता होगा। परन्तु दोनों कार्य महत्वपूर्ण थे और दोनों ही प्रभु द्वारा सौंपे गए थे।

   अनेकों बार हमें सौंपे गए कार्य, हमारे द्वारा चुने गए कार्य नहीं होते हैं; परन्तु हम सब, हमें सौंपे गए कार्यों के प्रति सही रवैया अवश्य रख सकते हैं। परमेश्वर द्वारा हमें सौंपे गए कार्य के प्रति हमारा रवैया, उसके प्रति हमारी सेवा और समर्पण का माप है। - डेविड मैक्कैसलैण्ड


जब छोटे काम को भी परमेश्वर के लिए किया जाए, तो वह पवित्र कार्य बन जाता है।

जो काम तू ने मुझे करने को दिया था, उसे पूरा कर के मैं ने पृथ्वी पर तेरी महिमा की है। - यूहन्ना 17:4

बाइबल पाठ: गिनती 4:17-32
Numbers 4:17 फिर यहोवा ने मूसा और हारून से कहा, 
Numbers 4:18 कहातियों के कुलों के गोत्रियों को लेवियों में से नाश न होने देना; 
Numbers 4:19 उसके साथ ऐसा करो, कि जब वे परमपवित्र वस्तुओं के समीप आएं तब न मरें परन्तु जीवित रहें; अर्थात हारून और उसके पुत्र भीतर आकर एक एक के लिये उसकी सेवकाई और उसका भार ठहरा दें, 
Numbers 4:20 और वे पवित्र वस्तुओं के देखने को झण भर के लिये भी भीतर आने न पाएं, कहीं ऐसा न हो कि मर जाएं।
Numbers 4:21 फिर यहोवा ने मूसा से कहा, 
Numbers 4:22 गेर्शोनियों की भी गिनती उनके पितरों के घरानों और कुलों के अनुसार कर; 
Numbers 4:23 तीस वर्ष से ले कर पचास वर्ष तक की अवस्था वाले, जितने मिलापवाले तम्बू में सेवा करने को सेना में भरती हों उन सभों को गिन ले। 
Numbers 4:24 सेवा करने और भार उठाने में गेर्शोनियों के कुल वालों की यह सेवकाई हो; 
Numbers 4:25 अर्थात वे निवास के पटों, और मिलापवाले तम्बू और उसके ओहार, और इसके ऊपर वाले सूइसों की खालों के ओहार, और मिलापवाले तम्बू के द्वार के पर्दे, 
Numbers 4:26 और निवास, और वेदी की चारों ओर के आंगन के पर्दों, और आंगन के द्वार के पर्दे, और उनकी डोरियों, और उन में बरतने के सारे सामान, इन सभों को वे उठाया करें; और इन वस्तुओं से जितना काम होता है वह सब भी उनकी सेवकाई में आए। 
Numbers 4:27 और गेर्शोनियों के वंश की सारी सेवकाई हारून और उसके पुत्रों के कहने से हुआ करे, अर्थात जो कुछ उन को उठाना, और जो जो सेवकाई उन को करनी हो, उनका सारा भार तुम ही उन्हें सौपा करो। 
Numbers 4:28 मिलापवाले तम्बू में गेर्शोनियों के कुलों की यही सेवकाई ठहरे; और उन पर हारून याजक का पुत्र ईतामार अधिकार रखे।
Numbers 4:29 फिर मरारियों को भी तू उनके कुलों और पितरों के घरानों के अनुसार गिन लें; 
Numbers 4:30 तीस वर्ष से ले कर पचास वर्ष तक की अवस्था वाले, जितने मिलापवाले तम्बू की सेवा करने को सेना में भरती हों, उन सभों को गिन ले। 
Numbers 4:31 और मिलापवाले तम्बू में की जिन वस्तुओं के उठाने की सेवकाई उन को मिले वे ये हों, अर्थात निवास के तख्ते, बेड़े, खम्भे, और कुसिर्यां, 
Numbers 4:32 और चारों ओर आंगन के खम्भे, और इनकी कुसिर्यां, खूंटे, डोरियां, और भांति भांति के बरतने का सारा सामान; और जो जो सामान ढ़ोने के लिये उन को सौपा जाए उस में से एक एक वस्तु का नाम ले कर तुम गिन दो।

एक साल में बाइबल: 
  • अमोस 1-3
  • प्रकाशितवाक्य 6