बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, July 12, 2019

प्रार्थना



      प्रार्थना करने की इच्छुक एक महिला ने एक खाली कुर्सी को खींचा, और उसके सामने घुटने टेकते हुए आंसुओं से भीगी आँखों के साथ कहा, “मेरे प्रिय स्वर्गीय पिता, कृपया यहाँ बैठें; मुझे और आपको कुछ बात करनी आवश्यक है!” और फिर उस खाली कुर्सी की ओर ध्यान से देखते हुए , वह प्रार्थना करने लगी। उसने प्रभु के समक्ष आने में भरोसा दिखाया; उसने विश्वास किया कि प्रभु वहाँ उसके पास उस कुर्सी पर बैठा हुआ है, और उसके निवेदन को सुन रहा है।

      प्रभु के साथ वार्तालाप में बिताया गया समय बहुत महत्वपूर्ण होता है। जब हम परस्पर संभागी होकर उसके निकट आते हैं, वह भी हमारे निकट आता है (याकूब 4:8)। प्रभु ने हमें आश्वासन दिया है, “और देखो, मैं जगत के अन्त तक सदैव तुम्हारे संग हूं” (मत्ती 28:20)। हमारा स्वर्गीय पिता सदा हमारी बाट जोहता है कि हम उसके पास आएँ और अपने मन की बात उससे कहें; वह हमारी सुनने के लिए सदा तैयार रहता है।

      ऐसे भी समय आते हैं जब हमारे लिए प्रार्थना कर पाना कठिन होता है, हमारी थकान, नींद, बीमारी, या दुर्बलता के कारण। परन्तु हम किसी भी कारण से असक्षम अथवा दुर्बल हों, प्रभु परमेश्वर हमारी हर परिक्षा में हमारे प्रति सहानुभूति रखता है (इब्रानियों 4:15)। इसलिए हम “हम अनुग्रह के सिंहासन के निकट हियाव बान्‍धकर चलें, कि हम पर दया हो, और वह अनुग्रह पाएं, जो आवश्यकता के समय हमारी सहायता करे” (पद 16)। - लॉरेंस दरमानी


परमेश्वर सर्वव्यापी है, सदा उपलब्ध रहता है, और सर्वदा सुनता है।

परमेश्वर के निकट आओ, तो वह भी तुम्हारे निकट आएगा: हे पापियों, अपने हाथ शुद्ध करो; और हे दुचित्ते लोगों अपने हृदय को पवित्र करो। - याकूब 4:8

बाइबल पाठ: इब्रानियों 4:14-16
Hebrews 4:14 सो जब हमारा ऐसा बड़ा महायाजक है, जो स्‍वर्गों से हो कर गया है, अर्थात परमेश्वर का पुत्र यीशु; तो आओ, हम अपने अंगीकार को दृढ़ता से थामें रहे।
Hebrews 4:15 क्योंकि हमारा ऐसा महायाजक नहीं, जो हमारी निर्बलताओं में हमारे साथ दुखी न हो सके; वरन वह सब बातों में हमारे समान परखा तो गया, तौभी निष्‍पाप निकला।
Hebrews 4:16 इसलिये आओ, हम अनुग्रह के सिंहासन के निकट हियाव बान्धकर चलें, कि हम पर दया हो, और वह अनुग्रह पाएं, जो आवश्यकता के समय हमारी सहायता करे।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 4-6
  • प्रेरितों 17:16-34