बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, May 31, 2012

कब और कैसे?

   आज के समय की तकनीकी ने कुछ लोगों के लिए दिन रात काम करते रहना संभव बना दिया है। तकनीकी के कारण हमें काम करने के लिए कार्यस्थल पर ही रुकना आवश्यक नहीं है, हम अपना काम घर पर भी ला सकते हैं या अपने साथ अपनी छुट्टियों पर ले जा सकते हैं और उसे ज़ारी रख सकते हैं। जब तक बिजली उपलब्ध है, हमारा काम भी बिना रुके चलता रह सकता है।

   पिछली सर्दियों में बर्फबारी ने कई स्थानों और वहां के लोगों को ठहरा दिया। बर्फीले तूफनों से कई जगहों पर पेड़ और शाखाएं टूटकर गिर गए जिससे सड़कें रुक गईं और लोगों को घरों में रहना पड़ा। बिजली के तार भी गिर गए जिससे लोगों को ठंड और अन्धकार में समय बिताना पड़ा, और बिजली के अभाव में वे कुछ भी कर सकने की स्थिति में नहीं रहे।

   जब कभी कुछ ऐसा मेरे जीवन को बाधित करता है, तो मुझे एहसास होता है कि कार्य मेरे जीवन के लिए कितना आवश्यक है। यदि करने को कुछ ना हो तो मैं अपने आपको व्यर्थ और अयोग्य समझने लग जाता हूं। किंतु परमेश्वर नहीं चाहता कि हमारा कार्य हमारे लिये इतना आवश्यक हो जाए कि कोई बर्फीला तूफान या अन्य कोई प्राकृतिक आपदा ही हमें काम से रोकने पाए। परमेश्वर चाहता है कि हम सप्ताह में एक दिन समय निकालें और अपनी सांसारिक व्यस्तताओं से निकल कर उसकी ओर ध्यान दें, और अपने लिये फिर से सप्ताह भर के कार्य के लिए शक्ति पाएं। इसीलिये परमेश्वर ने इस्त्राएल को दी गई अपनी दस आज्ञाओं में एक आज्ञा अपने विश्राम दिन या सबत के दिन के विषय में दी जिस दिन परमेश्वर के लोगों, उनके सेवकों और उनके जानवरों को भी किसी प्रकार का कोई कार्य करना वर्जित था (निर्गमन २०:८-११; २३:१२)।

   चाहे नए नियम के इस काल में हम मसीही विश्वासी व्यवस्था के आधीन नहीं हैं, किंतु विश्राम का दिन और परमेश्वर का स्मरण हमारे लिये भी उतना ही आवश्यक है। सप्ताह में एक दिन अपने कार्य से विश्राम लेकर परमेश्वर की उपासना के लिए समर्पित कर देना ना केवल हमें स्वस्थ रखता है, हमारे पारिवारिक जीवन को भी बनाता है, और हमें परमेश्वर की आशीषों से भी भरता है; साथ ही हमें यह एहसास दिलाता रहता है कि कार्य हमारे जीवनों में परमेश्वर और उसकी आज्ञाकारिता से अधिक महत्वपूर्ण नहीं है।

   परमेश्वर की ओर मुड़ने और विश्राम के लिये उसके विधान को मानने के लिये आप किस बात की प्रतीक्षा में हैं? क्या कोई प्रकृतिक आपदा या थके हुए मन और शरीर की व्याधि ही आपको विश्राम के लिए मजबूर कर सकगी? अपनी ही भलाई के लिए आप परमेश्वर के विधान को अपने जीवन में कब और कैसे लागू करेंगे? - डेव ब्रैनन


यदि कार्य की व्यस्तता से निकल कर विश्राम नहीं लेंगे तो किसी ’विश्राम’ द्वारा कार्य से ही निकाल दिए जाएंगे।

छ: दिन तक तो अपना काम काज करना, और सातवें दिन विश्राम करना, कि तेरे बैल और गदहे सुस्ताएं, और तेरी दासियों के बेटे और परदेशी भी अपना जी ठंडा कर सकें। - निर्गमन २३:१२

बाइबल पाठ: निर्गमन २०:१-१७
Exo 20:1  तब परमेश्वर ने ये सब वचन कहे,
Exo 20:2 कि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा हूं, जो तुझे दासत्व के घर अर्थात मिस्र देश से निकाल लाया है।
Exo 20:3  तू मुझे छोड़ दूसरों को ईश्वर कर के न मानना।
Exo 20:4  तू अपने लिये कोई मूर्ति खोद कर न बनाना, न किसी कि प्रतिमा बनाना, जो आकाश में, वा पृथ्वी पर, वा पृथ्वी के जल में है।
Exo 20:5 तू उनको दण्डवत्‌ न करना, और न उनकी उपासना करना, क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा जलन रखने वाला ईश्वर हूं, और जो मुझ से बैर रखते है, उनके बेटों, पोतों, और परपोतों को भी पितरों का दण्ड दिया करता हूं,
Exo 20:6  और जो मुझ से प्रेम रखते और मेरी आज्ञाओं को मानते हैं, उन हजारों पर करूणा किया करता हूं।
Exo 20:7  तू अपने परमेश्वर का नाम व्यर्थ न लेना, क्योंकि जो यहोवा का नाम व्यर्थ ले वह उसको निर्दोष न ठहराएगा।
Exo 20:8  तू विश्राम दिन को पवित्र मानने के लिये स्मरण रखना।
Exo 20:9  छ: दिन तो तू परिश्रम कर के अपना सब काम काज करना;
Exo 20:10  परन्तु सातवां दिन तेरे परमेश्वर यहोवा के लिये विश्राम दिन है। उस में न तो तू किसी भांति का काम काज करना, और न तेरा बेटा, न तेरी बेटी, न तेरा दास, न तेरी दासी, न तेरे पशु, न कोई परदेशी जो तेरे फाटकों के भीतर हो।
Exo 20:11  क्योंकि छ: दिन में यहोवा ने आकाश, और पृथ्वी, और समुद्र, और जो कुछ उन में है, सब को बनाया, और सातवें दिन विश्राम किया; इस कारण यहोवा ने विश्राम दिन को आशीष दी और उसको पवित्र ठहराया।
Exo 20:12  तू अपने पिता और अपनी माता का आदर करना, जिस से जो देश तेरा परमेश्वर यहोवा तुझे देता है उस में तू बहुत दिन तक रहने पाए।
Exo 20:13  तू खून न करना।
Exo 20:14  तू व्यभिचार न करना।
Exo 20:15  तू चोरी न करना।
Exo 20:16  तू किसी के विरूद्ध झूठी साक्षी न देना।
Exo 20:17  तू किसी के घर का लालच न करना, न तो किसी की स्त्री का लालच करना, और न किसी के दास-दासी, वा बैल गदहे का, न किसी की किसी वस्तु का लालच करना।


एक साल में बाइबल: 

  • २ इतिहास १३-१४ 
  • यूहन्ना १२:१-२६

Wednesday, May 30, 2012

यादगार

   प्रत्येक यादगार दिवस पर हम उन शहीदों को याद करते हैं जिन्होंने देश की सेवा में अपने प्राण न्योछावर कर दिए। अमेरिका में एक स्थान है जहां यह यादगार एक गंभीर और महत्वपूर्ण बात साल में केवल एक दिन नहीं वरन सारे साल बनी रहती है; यह स्थान है वॉशिंगटन के निकट स्थित आर्लिंगटन राष्ट्रीय कब्रिस्तान। यह वह स्थान है जहां उम्र के कारण जीवन समाप्त करने वाले बीते समय के युद्ध के वीरों और वर्तमान में संसार में स्थान स्थान पर चल रहे संघर्षों में काम आने वाले अमेरीकी सैनिकों को अन्तिम विदाई दी जाती है, और औसतन प्रतिदिन २५ अन्तिम संसकार किए जाते हैं।

   इस कब्रिस्तान की देख रेख और इन अन्तिम संसकारों का किया जाना अमेरिका की 3rd Infantry Regiment की एक टुकड़ी The Old Guard की ज़िम्मेदारी है। वे ही इन शहीदों के शवों को लेकर उनके अन्तिम स्थान तक ले जाते हैं और पूरे सैनिक सम्मान के साथ दफनाते हैं। इस टुकड़ी के सदस्य स्वतंत्रता की कीमत को कभी नज़रन्दाज़ नहीं कर सकते, क्योंकि प्रतिदिन यह उन्हें बार बार स्मरण हो आती है।

   प्रभु यीशु के विश्वासियों को प्रभु भोज उस यादगार के रूप में दिया गया है जो उन्हें स्मरण दिलाए कि पाप से उनकी स्वतंत्रता के लिए प्रभु यीशु को क्या कीमत चुकानी पड़ी। जब मसीही विश्वासी प्रभु भोज में सम्मिलित होते हैं तो वे अपने प्रभु की आज्ञा "...मेरे स्मरण के लिये यही किया करो" (१ कुरिन्थियों ११:२४) को पूरी करते हैं।

   प्रभु यीशु की मृत्यु के इस गंभीर स्मरण में एक आनन्द है, क्योंकि यह यादगार केवल स्पताह के एक दिन और प्रभु भोज की मेज़ तक ही सीमित नहीं है, यह विश्वासी के नए जन्म और जीवन का आधार है। हमें पापों से क्षमा देने वाले और उद्धारकर्ता प्रभु यीशु को समर्पित और उसकी आज्ञाकारिता का जीवन जी कर हम संसार को प्रतिदिन दिखा सकते हैं कि हम उसके बलिदान को भूले नहीं हैं। - बिल क्राउडर


मसीह की मृत्यु की याद मसीही विश्वासियों के लिये मसीह के लिये जीने की प्रेरणा है।

और धन्यवाद करके उसे तोड़ी, और कहा कि यह मेरी देह है, जो तुम्हारे लिये है : मेरे स्मरण के लिये यही किया करो। - १ कुरिन्थियों ११:२४

बाइबल पाठ: १ कुरिन्थियों ११:२३-३२
1Co 11:23  क्‍योंकि यह बात मुझे प्रभु से पहुंची, और मैं ने तुम्हें भी पहुंचा दी, कि प्रभु यीशु ने जिस रात वह पकड़वाया गया रोटी ली।
1Co 11:24  और धन्यवाद कर के उसे तोड़ी, और कहा कि यह मेरी देह है, जो तुम्हारे लिये है : मेरे स्मरण के लिये यही किया करो।
1Co 11:25  इसी रीति से उस ने बियारी के पीछे कटोरा भी लिया, और कहा यह कटोरा मेरे लोहू में नई वाचा है: जब कभी पीओ, तो मेरे स्मरण के लिये यही किया करो।
1Co 11:26 क्‍योंकि जब कभी तुम यह रोटी खाते, और इस कटोरे में से पीते हो, तो प्रभु की मृत्यु को जब तक वह न आए, प्रचार करते हो।
1Co 11:27  इसलि्ये जो कोई अनुचित रीति से प्रभु की रोटी खाए, या उसके कटोरे में से पीए, वह प्रभु की देह और लोहू का अपराधी ठहरेगा।
1Co 11:28  इसलिये मनुष्य अपने आप को जांच ले और इसी रीति से इस रोटी में से खाए, और इस कटोरे में से पीए।
1Co 11:29 क्‍योंकि जो खाते-पीते समय प्रभु की देह को न पहिचाने, वह इस खाने और पीने से अपने ऊपर दण्‍ड लाता है।
1Co 11:30  इसी कारण तुम में से बहुत से निर्बल और रोगी हैं, और बहुत से सो भी गए।
1Co 11:31  यदि हम अपने आप में जांचते, तो दण्‍ड न पाते।
1Co 11:32  परन्‍तु प्रभु हमें दण्‍ड देकर हमारी ताड़ना करता है इसलिये कि हम संसार के साथ दोषी न ठहरें।


एक साल में बाइबल: 

  • २ इतिहास १०-१२ 
  • यूहन्ना ११:३०-५७

Tuesday, May 29, 2012

"कभी नहीं" - कभी नहीं!

   मैं अपने एक मित्र के साथ उस मार्ग पर चल रहा था जहां कभी बर्लिन की दीवार खड़ी हुई थी; उस ने मुझे बताया, "यह मेरे जीवन के ’कभी नहीं’ - कभी नहीं स्थानों में से एक है।" फिर उसने विस्तार से बताया कि जब जर्मनी कम्युनिस्ट पूर्वी और लोकतांत्रिक पश्चिमी भागों में विभाजित दो पृथक राष्ट्र हुआ करता था, तब बर्लिन भी पूर्वी और पश्चिमी भागों में विभाजित था और पश्चिमी से पूर्वी भाग में जाने के लिए लोगों को विशेष अनुमति के साथ चैकपॉइंट चार्ली नामक नाके से होकर निकलना पड़ता था। मेरे मित्र ने उन दिनों में पूर्वी जर्मनी में ताड़ना, दबाव और कठिनाईयों में जी रहे मसीही विश्वासियों को प्रोत्साहित करने के लिए इस नाके से होकर पूर्वी जर्मनी में कई चक्कर लगाए। ऐसा करते समय सीमा प्रहरियों ने उसे कई बार रोक कर उससे पूछताछ करी और उसे नाहक परेशान किया।

   १९८८ में मेरा वह मित्र अपने किशोर बच्चों को लेकर पश्चिमी बर्लिन आया और उन्हें बर्लिन की दीवार दिखाते हुए कहा, "इस दीवार को ध्यान से देखो; कुछ वर्षों बाद जब तुम अपने बच्चों को लेकर यहां आओगे, तब भी यह दिवार ऐसी ही खड़ी मिलेगी।" और इसके एक वर्ष के अन्दर ही वह दीवार गिरा दी गई, पूर्वी तथा पश्चिमी जर्मनी का विलय हो गया और वे फिर से एक राष्ट्र बन गए। जो असंभव लगता था वह देखते ही देखते अप्रत्याशित रीति से संभव हो गया।

   जब तरशीश के शाउल ने मसीही विश्वासियों का विरोध करना और उन पर हमले करना आरंभ किया था तो कोई सोच भी नहीं सकता था कि वह भी मसीह का चेला बन जाएगा। उस समय के लोगों के लिए यह "कभी नहीं" संभव होने वाली बात थी। परन्तु परमेश्वर के वचन बाइबल के प्रेरितों ९:१-९ में वर्णन है कि कैसे जब शाउल दमिशक से मसीही विश्वासियों को पकड़ कर लाने जा रहा था कि उन्हें बन्दीगृह में डाला जाए तो उसका प्रभु यीशु के साथ एक चकाचौन्ध कर देने वाला सामना हुआ। इस जीवन बदल देने वाली घटना के बाद, भूतपूर्व मसीह विरोधी शाउल प्रभु यीशु को पूर्णतः समर्पित पौलुस बन गया और कुछ ही समय में सभी यहूदी आराधानलयों और अन्य लोगों में प्रभु यीशु मसीह के परमेश्वर का पुत्र और जगत का उद्धारकर्ता होने का प्रचार करने लगा, जो उसके सब सुनने वालों के लिए एक बड़े अचंभे की बात थी।

   जब परमेश्वर द्वारा कठोर और असंभव प्रतीत होने वाले लोगों में परिवर्तन आने की बात आती है तो इस संभावना के लिए हमें कभी भी "कभी नहीं" नहीं बोलना चाहिए। - डेविड मैक्कैसलैंड


परमेश्वर द्वारा किए जाने के लिए किसी भी कार्य को कभी भी असंभव ना माने।


और वह तुरन्‍त आराधनालयों में यीशु का प्रचार करने लगा, कि वह परमेश्वर का पुत्र है। - प्रेरितों ९:२०

बाइबल पाठ: प्रेरितों ९:१-२२
Act 9:1   और शाऊल जो अब तक प्रभु के चेलों को धमकाने और घात करने की धुन में था, महायाजक के पास गया।
Act 9:2  और उस से दमिश्‍क के अराधनालयों के नाम पर इस अभिप्राय की चिट्ठियां मांगी, कि क्‍या पुरूष, क्‍या स्त्री, जिन्‍हें वह इस पंथ पर पाए उन्‍हें बान्‍ध कर यरूशलेम में ले आए।
Act 9:3  परन्‍तु चलते चलते जब वह दमिश्‍क के निकट पहुंचा, तो एकाएक आकाश से उसके चारों ओर ज्योति चमकी।
Act 9:4  और वह भूमि पर गिर पड़ा, और यह शब्‍द सुना, कि हे शाऊल, हे शाऊल, तू मुझे क्‍यों सताता है?
Act 9:5   उस ने पूछा, हे प्रभु, तू कौन है? उस ने कहा, मैं यीशु हूं, जिसे तू सताता है।
Act 9:6  परन्‍तु अब उठकर नगर में जा, और जो कुछ करना है, वह तुझ से कहा जाएगा।
Act 9:7  जो मनुष्य उसके साथ थे, वे चुपचाप रह गए, क्‍योंकि शब्‍द तो सुनते थे, परन्‍तु किसी को देखते न थे।
Act 9:8  तब शाऊल भूमि पर से उठा, परन्‍तु जब आंखे खोलीं तो उसे कुछ दिखाई न दिया और वे उसका हाथ पकड़ के दमिश्‍क में ले गए।
Act 9:9   और वह तीन दिन तक न देख सका, और न खाया और न पीया।
Act 9:10  दमिश्‍क में हनन्याह नाम एक चेला था, उस से प्रभु ने दर्शन में कहा, हे हनन्याह! उस ने कहा, हां प्रभु।
Act 9:11  तब प्रभु ने उस से कहा, उठकर उस गली में जा जो सीधी कहलाती है, और यहूदा के घर में शाऊल नाम एक तारसी को पूछ ले, क्‍योंकि देख, वह प्रार्थना कर रहा है।
Act 9:12  और उस ने हनन्याह नाम एक पुरूष को भीतर आते, और अपने ऊपर हाथ रखते देखा है, ताकि फिर से दृष्‍टि पाए।
Act 9:13   हनन्याह ने उत्तर दिया, कि हे प्रभु, मैं ने इस मनुष्य के विषय में बहुतों से सुना है, कि इस ने यरूशलेम में तेरे पवित्र लोगों के साथ बड़ी बड़ी बुराईयां की हैं।
Act 9:14  और यहां भी इस को महायाजकों की ओर से अधिकार मिला है, कि जो लोग तेरा नाम लेते हैं, उन सब को बान्‍ध ले।
Act 9:15  परन्‍तु प्रभु ने उस से कहा, कि तू चला जा; क्‍योंकि यह, तो अन्यजातियों और राजाओं, और इस्‍त्राएलियों के साम्हने मेरा नाम प्रगट करने के लिये मेरा चुना हुआ पात्र है।
Act 9:16   और मैं उसे बताऊंगा, कि मेरे नाम के लिये उसे कैसा कैसा दुख उठाना पड़ेगा।
Act 9:17  तब हनन्याह उठकर उस घर में गया, और उस पर अपना हाथ रख कर कहा, हे भाई शाऊल, प्रभु, अर्थात यीशु, जो उस रास्‍ते में, जिस से तू आया तुझे दिखाई दिया था, उसी ने मुझे भेजा है, कि तू फिर दृष्‍टि पाए और पवित्र आत्मा से परिपूर्ण हो जाए।
Act 9:18  और तुरन्‍त उस की आंखों से छिलके से गिरे, और वह देखने लगा और उठकर बपतिस्मा लिया, फिर भोजन करके बल पाया।
Act 9:19  और वह कई दिन उन चेलों के साथ रहा जो दमिश्‍क में थे।
Act 9:20  और वह तुरन्‍त आराधनालयों में यीशु का प्रचार करने लगा, कि वह परमेश्वर का पुत्र है।
Act 9:21  और सब सुनने वाले चकित होकर कहने लगे, क्‍या यह वही व्यक्ति नहीं है जो यरूशलेम में उन्‍हें जो इस नाम को लेते थे नाश करता था, और यहां भी इसी लिये आया या, कि उन्हें बान्‍ध कर महायाजकों के पास ले आए
Act 9:22  परन्‍तु शाऊल और भी सामर्थी होता गया, और इस बात का प्रमाण दे देकर कि मसीह यही है, दमिश्‍क के रहने वाले यहूदियों का मुंह बन्‍द करता रहा।


एक साल में बाइबल: 

  • २ इतिहास ७-९ 
  • यूहन्ना ११:१-२९

Monday, May 28, 2012

उस के हाथों में

   सेडरविल्ल विश्वविद्यालय के २००२ के दीक्षांत समारोह में, उस वर्ष के स्नातकों को, जिनमें हमारी बेटी जूली भी थी, अपने संदेश में डॉ० पौल डिक्सन ने आगे के जीवन के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा: "तुम्हारे समय परमेश्वर के हाथों में हैं।" हम सब परिवारजन वहां उपस्थित थे और यह सुन रहे थे, तथा सोच रहे थे कि उन्होंने कितना सही कहा, स्नातकों को कितनी अच्छी बात बताई। उस समय हमें इस बात का ज़रा भी अन्देशा नहीं था कि ५ दिनों में ही हमारी एक और बेटी मेलिस्सा, एक कार दुर्घटना द्वारा पृथ्वी से स्वर्ग के लिए कूच कर जाएगी, और हम उस दिन के उस संदेश में भजन ३१:१५ से लेकर कही गए उस बात को एक नए संदर्भ में स्मरण करते रह जाएंगे।

   उसके बाद के वर्षों में हमने दुखते दिलों के अनुभवों द्वारा जाना है कि परमेश्वर ने अपनी रहस्यमयी इच्छा के अन्तर्गत कुछ लोगों के लिए एक छोटा जीवन काल निर्धारित किया है। मुझे कुछ उदाहरण स्मरण आते हैं; जैसे कि हीदर, एक मसीही विश्वासी युवती, जिसके पास सदा ही सब के लिए एक मधुर मुस्कान होती थी; उसकी ऊंगुली में एक घाव हुआ और सप्ताह भर ही में वह गंभीर संक्रमण के कारण चल बसी। या, मैग्गी, एक और युवा मसीही विश्वासी, खेलते समय उसकी गर्दन पर गेंद लगी और उसका जीवनांत हो गया। या, थौमस नाम का एक और किशोर, जो प्रभु यीशु से बहुत प्रेम करता था और मछली पकड़ने का शौक रखता था; एक दिन जब वह मछली पकड़ने के बाद अपनी साईकिल से घर वापस लौट रहा था तो एक कार द्वारा टक्कर मारे जाने से जाता रहा। इन सभी छोटी उम्र के विश्वासियों ने अपने छोटे से जीवन काल में अपने प्रभु और उस में अपने विश्वास तथा दूसरों के प्रति अपने प्रेम से एक ऐसी विरासत बना ली थी, कि जब उनका समया आया तो वे अपने प्रभु के सामने उपस्थित होने के लिए तैयार थे।

   भजनकार ने यह पहचानते हुए कि उसके जीवन का नियंत्रण केवल परमेश्वर के हाथों ही में है, कहा: "मैं ने तो तुझी पर भरोसा रखा है" (भजन ३१:१५)। क्या आपने अपना जीवन परमेश्वर के हाथों में समर्पित कर दिया है? क्या आपने उस पर पूर्ण रीति से भरोसा कर लिया है? क्या आप कभी भी, या अभी ही, उसके सामने उपस्थित होने और अपने जीवन का हिसाब देने के लिए तैयार हैं?

   आपसे यह हिसाब कभी भी अनायास ही मांगा जा सकता है, इसे नज़रंदाज़ मत कीजिए, इसकी तैयारी में विलंब मत कीजिए। प्रभुइ यीशु मसीह में विश्वास और पापों की क्षमा द्वारा अपना अनन्त्काल सुरक्षित कर लिजिए। - डेव ब्रैनन


सब लोगों के समय परमेश्वर के हाथों में हैं तथा सभी मसीही विश्वासियों की आत्माएं उसके हाथों में अनन्तकाल के लिए सुरक्षित हैं।

परन्तु हे यहोवा मैं ने तो तुझी पर भरोसा रखा है, मैं ने कहा, तू मेरा परमेश्वर है। मेरे दिन तेरे हाथ में हैं, तू मुझे मेरे शत्रुओं और मेरे सताने वालों के हाथ से छुड़ा। - भजन ३१:१४-१५

बाइबल पाठ: भजन ३१:१-१६
Psa 31:1  हे यहोवा मेरा भरोसा तुझ पर है, मुझे कभी लज्जित होना न पड़े; तू अपने धर्मी होने के कारण मुझे छुड़ा ले!
Psa 31:2  अपना कान मेरी ओर लगा कर तुरन्त मुझे छुड़ा ले!
Psa 31:3  क्योंकि तू मेरे लिए चट्टान और मेरा गढ़ है; इसलिए अपने नाम के निमित्त मेरी अगुवाई कर, और मुझे आगे ले चल।
Psa 31:4  जो जाल उन्होंने मेरे लिए बिछाया है उस से तू मुझ को छुड़ा ले, क्योंकि तू ही मेरा दृढ़ गढ़ है।
Psa 31:5  मैं अपनी आत्मा को तेरे ही हाथ में सौंप देता हूं; हे यहोवा, हे सत्यवादी ईश्वर, तू ने मुझे मोल लेकर मुक्त किया है।
Psa 31:6  जो व्यर्थ वस्तुओं पर मन लगाते हैं, उन से मैं घृणा करता हूं, परन्तु मेरा भरोसा यहोवा ही पर है।
Psa 31:7  मैं तेरी करूणा से मगन और आनन्दित हूं, क्योंकि तू ने मेरे दु:ख पर दृष्टि की है, मेरे कष्ट के समय तू ने मेरी सुधि ली है,
Psa 31:8  और तू ने मुझे शत्रु के हाथ में पड़ने नहीं दिया, तू ने मेरे पांवों को चौड़े स्थान में खड़ा किया है।
Psa 31:9  हे यहोवा, मुझ पर अनुग्रह कर क्योंकि मैं संकट में हूं; मेरी आंखे वरन मेरा प्राण और शरीर सब शोक के मारे घुले जाते हैं।
Psa 31:10  मेरा जीवन शोक के मारे और मेरी अवस्था कराहते कराहते घट चली है; मेरा बल मेरे अधर्म के कारण जाता रह, ओर मेरी हडि्डयां घुल गई।
Psa 31:11  अपने सब विरोधियों के कारण मेरे पड़ोसियों में मेरी नामधराई हुई है, अपने जान-पहिचान वालों के लिए डर का कारण हूं; जो मुझ को सड़क पर देखते है वह मुझ से दूर भाग जाते हैं।
Psa 31:12  मैं मृतक की नाईं लोगों के मन से बिसर गया, मैं टूटे बासन के समान हो गया हूं।
Psa 31:13  मैं ने बहुतों के मुंह से अपना अपवाद सुना, चारों ओर भय ही भय है! जब उन्होंने मेरे विरूद्ध आपस में सम्मति की तब मेरे प्राण लेने की युक्ति की।
Psa 31:14  परन्तु हे यहोवा मैं ने तो तुझी पर भरोसा रखा है, मैं ने कहा, तू मेरा परमेश्वर है।
Psa 31:15  मेरे दिन तेरे हाथ में हैं; तू मुझे मेरे शत्रुओं और मेरे सताने वालों के हाथ से छुड़ा।
Psa 31:16  अपने दास पर अपने मुंह का प्रकाश चमका; अपनी करूणा से मेरा उद्धार कर।


एक साल में बाइबल: 

  • २ इतिहास ४-६ 
  • यूहन्ना १०:२४-४२

Sunday, May 27, 2012

पक्षपात

   रूथ रेचल पेशे से भोजनालयों, होटलों और रेस्टुरैंटों के स्तर, कार्य और व्यवस्था की समीक्षा करने वाली महिला थीं, जो देश के जाने माने अखबार "The New York Times" में प्रकाशित होने वाली अपनी प्रभावकारी समीक्षा और अलोचना के लिए जानी जाती थीं। अपनी रोचक पुस्तक "Garlic and Sapphires: the Secret Life of a Critic in Disguise" में रेचल अपने ६ वर्ष के अनुभवों को बताती हैं। क्योंकि उनकी आलोचनाओं और समीक्षाओं का व्यापक प्रभाव होता था, इसलिए बड़े बड़े और नामी होटलों तथा रेस्टुरैंटों ने उनकी तस्वीर लगा कर रखी हुई थी जिससे उनके कर्मचारी उन्हें पहचान लें और उनकी आव-भगत तथा सेवा में कोई कमी न रहे, और वे उनके बारे में अच्छे लेख लिख सकें।

   पहचाने जाने के कारण असामान्य ध्यान और सेवा मिलने से बचने और सच्ची समीक्षा लिख पाने के लिए रेचल ने एक कुशल उपाय लागू किया, वे भेष बदल कर होटलों और रेस्टुरैंटों में जाने लगीं, जिससे उनके साथ भी वहां के किसी सामान्य ग्राहक के समान ही बर्ताव हो सके। एक बार वे एक वृद्ध महिला बनकर गईं, और पाया कि रेस्टुरैंट में बैठाए जाने के लिए उन्हें लंबी प्रतीक्षा करनी पड़ी, और फिर उनकी ओर कोई विशेष ध्यान भी नहीं दिया गया, उनके आग्रहों को अन्देखा किया गया।

   ऐसे पक्षपाती व्यवहार के विरुद्ध परमेश्वर का वचन बाइबल स्पष्ट निर्देश देती है। याकूब ने अपनी पत्री में लिखा: "हे मेरे भाइयों, हमारे महिमायुक्त प्रभु यीशु मसीह का विश्वास तुम में पक्षपात के साथ न हो। क्‍योंकि यदि एक पुरूष सोने के छल्ले और सुन्‍दर वस्‍त्र पहिने हुए तुम्हारी सभा में आए और एक कंगाल भी मैले कुचैले कपड़े पहिने हुए आए। और तुम उस सुन्‍दर वस्‍त्र वाले का मुंह देख कर कहो कि तू वहां अच्‍छी जगह बैठ; और उस कंगाल से कहो, कि तू यहां खड़ा रह, या मेरे पांव की पीढ़ी के पास बैठ। तो क्‍या तुम ने आपस में भेद भाव न किया और कुविचार से न्याय करने वाले न ठहरे?" (याकूब २:१-४)

   जब कोई व्यक्ति हमारे चर्च या मण्डली में आता है तो उसके साथ कैसे व्यवहार होता है? क्या हम धनवानों और प्रसिद्धी प्राप्त लोगों के प्रति पक्षपाती होते हैं? परमेश्वर की इच्छा है कि हम सब के साथ समान व्यवहार करें, सबके लिए बराबर चिंता करें, उन में एक समान रुचि दिखाएं, ना कि ऊपरी रीति से या बाहर से प्रतीत होने वाले उनके धन और सामाजिक स्तर के अनुसार।

   अपने प्रभु की आराधना और उपासना में हम सब को समान स्तर और रीति से स्वागत करें और उन्हें समानता के साथ सम्मिलित करें। - डेनिस फिशर


जब परमेश्वर हमें, जैसे हम हैं वैसे ही, अपने साथ सहभागी करता है, अपने निकट लाता है तो फिर दूसरों के साथ भेद-भाव करने वाले हम कौन होते हैं?

पर यदि तुम पक्षपात करते हो, तो पाप करते हो, और व्यवस्था तुम्हें अपराधी ठहराती है। - याकूब २:९

बाइबल पाठ: याकूब २:१-९
Jas 2:1   हे मेरे भाइयों, हमारे महिमायुक्त प्रभु यीशु मसीह का विश्वास तुम में पक्षपात के साथ न हो।
Jas 2:2  क्‍योंकि यदि एक पुरूष सोने के छल्ले और सुन्‍दर वस्‍त्र पहिने हुए तुम्हारी सभा में आए और एक कंगाल भी मैले कुचैले कपड़े पहिने हुए आए।
Jas 2:3  और तुम उस सुन्‍दर वस्‍त्र वाले का मुंह देख कर कहो कि तू वहां अच्‍छी जगह बैठ; और उस कंगाल से कहो, कि तू यहां खड़ा रह, या मेरे पांव की पीढ़ी के पास बैठ।
Jas 2:4  तो क्‍या तुम ने आपस में भेद भाव न किया और कुविचार से न्याय करने वाले न ठहरे?
Jas 2:5  हे मेरे प्रिय भाइयों सुनो? क्‍या परमेश्वर ने इस जगत के कंगालों को नहीं चुना कि विश्वास में धर्मी, और उस राज्य के अधिकारी हों, जिस की प्रतिज्ञा उस ने उन से की है जो उस से प्रेम रखते हैं?
Jas 2:6  पर तुम ने उस कंगाल का अपमान किया: क्‍या धनी लोग तुम पर अत्याचार नहीं करते और क्‍या वे ही तुम्हें कचहिरयों में घसीट घसीट कर नहीं ले जाते?
Jas 2:7  क्‍या वे उस उत्तम नाम की निन्‍दा नहीं करते जिस के तुम कहलाए जाते हो?
Jas 2:8  तौभी यदि तुम पवित्र शास्‍त्र के इस वचन के अनुसार, कि तू अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम रख, सचमुच उस राज-व्यवस्था को पूरी करते हो, तो अच्‍छा करते हो।
Jas 2:9   पर यदि तुम पक्षपात करते हो, तो पाप करते हो, और व्यवस्था तुम्हें अपराधी ठहराती है।


एक साल में बाइबल: 

  • २ इतिहास १-३ 
  • यूहन्ना १०:१-२३

Saturday, May 26, 2012

ज़िम्मेदारी

   मेरा ऑस्ट्रेलियाई मित्र ग्रैहम अन्धा पैदा नहीं हुआ था, ९ वर्ष की आयु में घटित एक दुर्घटना के कारण वह अन्धा हो गया था। फिर भी वह अपने लिए कभी दुखी नहीं रहा; उसने अपना अध्ययन पूरा किया और एक फिज़्योथेरपिस्ट बना। वह जहां कहीं भी जाता था, अपने फिज़्योथेरपी के काम के साथ साथ वह यह बात अवश्य बांटता था कि प्रभु यीशु उसके लिए और उसके जीवन में क्या अर्थ रखते हैं। उसकी अन्तिम यात्रा थाइलैंड की थी और वहां भी वह फिज़ियोथैरिपी के साथ साथ प्रभु यीशु के सुसमाचार के प्रचार का कार्य करता रहा।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में राजाओं के वृतांत में हम चार कोढ़ियों के बारे में पढ़ते हैं। अराम की सेना ने उनके शहर को घेर रखा था, शहर के अन्दर खाने-पीने की सामग्री समाप्त हो चुकी थी और लोग बहुत क्लेष में थे। ये कोढ़ी अराम की छावनी की ओर चले, इस विचार से कि या तो वहां से कुछ खाने को मिलेगा या मौत मिलेगी जो भूखों मरने से बेहतर होगी। वहां पहुंच कर उन्होंने पाया कि अराम की सेना छावनी छोड़ कर भाग गई है और अपना सब सामान वहीं छावनी में छोड़ गई है। उन्होंने तुरंत वहां पड़ा भोजन किया और लूट जमा करने लगे, लेकिन थोड़ी ही देर में उन्हें कुछ ध्यान आया और: "तब वे आपस में कहने लगे, जो हम कर रहे हैं वह अच्छा काम नहीं है, यह आनन्द के समाचार का दिन है, परन्तु हम किसी को नहीं बताते। जो हम पौ फटने तक ठहरे रहें तो हम को दण्ड मिलेगा; सो अब आओ हम राजा के घराने के पास जाकर यह बात बतला दें" (२ राजा ७:९)। और उन्होंने जा कर शेष इस्त्राएलियों को यह समाचार दिया और लोग भूखों मरने से बच गए।

   अपनी शारीरिक अपंगताओं के बावजूद ग्राहम और उन कोढ़ियों, दोनो ही ने दूसरों के बारे में सोचा। जो उन्हें मिला था वे उसके लिए परमेश्वर की धन्यवादी थे और उन्होंने पहचाना कि यह उत्तम बात केवल अपने तक सीमित रखने के लिए नहीं है, इसे दूसरों के साथ बांटना उनकी ज़िम्मेदारी है, उनके लिए अनिवार्य है।

   क्या आप ने प्रभु यीशु के प्रेम को जाना है और उससे उद्धार पाया है? क्या आप के आस-पास ऐसा कोई है या आप किसी ऐसे को जानते हैं जिसे प्रभु यीशु के प्रेम और उद्धार की आवश्यक्ता है? उनके साथ प्रभु यीशु में पापों की क्षमा और उद्धार का सुसमाचार बांटना आपका दायित्व है, आपके लिए अनिवार्य है। सुसमाचार ना बांटने के लिए बहाने मत ढूंढिए, अपनी मजबूरियां मत गिनाईए; वरन इसके विपरीत प्रभु यीशु जो कुछ भी आपके जीवन में किया है उसी का वर्णन लोगों में कीजिए। प्रभु के साथ के अपने अनुभव को संसार के साथ बांटिए और आप पाएंगे कि आपके जीवन का एक नया उद्देश्य हो जाएगा; एक ऐसा उद्देश्य जिस की आशीष अनन्त काल तक रहेगी। - सी. पी. हीया


जब जो हमारे पास है हम उसके लिए धन्यवादी होते हैं तो हम उसे दूसरों के साथ बांटना भी चाहते हैं।


... यह आनन्द के समाचार का दिन है, परन्तु हम किसी को नहीं बताते। - २ राजा ७:९

बाइबल पाठ: २ राजा ७:३-११
2Ki 7:3  और चार कोढ़ी फाटक के बाहर थे; वे आपस में कहने लगे, हम क्यों यहां बैठे बैठे मर जाएं?
2Ki 7:4  यदि हम कहें, कि नगर में जाएं, तो वहां मर जाएंगे, क्योंकि वहां मंहगी पड़ी है, और जो हम यहीं बैठे रहें, तौभी मर ही जाएंगे। तो आओ हम अराम की सेना में पकड़े जाएं; यदि वे हम को जिलाए रखें तो हम जीवित रहेंगे, और यदि वे हम को मार डालें, तौभी हम को मरना ही है।
2Ki 7:5  तब वे सांझ को अराम की छावनी में जाने को चले, और अराम की छावनी की छोर पर पहुंच कर क्या देखा, कि वहां कोई नहीं है।
2Ki 7:6  क्योंकि प्रभु ने अराम की सेना को रथों और घोड़ों की और भारी सेना की सी आहट सुनाई थी, और वे आपस में कहने लगे थे कि, सुनो, इस्राएल के राजा ने हित्ती और मिस्री राजाओं को वेतन पर बुलवाया है कि हम पर चढ़ाई करें।
2Ki 7:7  इसलिए वे सांझ को उठ कर ऐसे भाग गए, कि अपने डेरे, घोड़े, गदहे, और छावनी जैसी की तैसी छोड़-छाड़ अपना अपना प्राण लेकर भाग गए।
2Ki 7:8  तो जब वे कोढ़ी छावनी की छोर के डेरों के पास पहुंचे, तब एक डेरे में घुस कर खाया पिया, और उस में से चान्दी, सोना और वस्त्र ले जा कर छिपा रखा; फिर लौट कर दूसरे डेरे में घुस गए और उस में से भी ले जा कर छिपा रखा।
2Ki 7:9  तब वे आपस में कहने लगे, जो हम कर रहे हैं वह अच्छा काम नहीं है, यह आनन्द के समाचार का दिन है, परन्तु हम किसी को नहीं बताते। जो हम पौ फटने तक ठहरे रहें तो हम को दण्ड मिलेगा; सो अब आओ हम राजा के घराने के पास जाकर यह बात बतला दें।
2Ki 7:10  तब वे चले और नगर के चौकीदारों को बुला कर बताया, कि हम जो अराम की छावनी में गए, तो क्या देखा, कि वहां कोई नहीं है, और मनुष्य की कुछ आहट नहीं है, केवल बन्धे हूए घोड़े और गदहे हैं, और डेरे जैसे के तैसे हैं।
2Ki 7:11  तब चौकीदारों ने पुकार के राजभवन के भीतर समाचार दिया।


एक साल में बाइबल: 

  • १ इतिहास २८-२९ 
  • यूहन्ना ९:२४-४१

Friday, May 25, 2012

संपूर्ण

   जौन स्टेईन्बैक का पुलिटज़र पुरुस्कार प्राप्त उपन्यास "The Grapes of Wrath" का कथानक २०वीं सदी के आरंभ में आई भीषण आर्थिक मंदी के समय में स्थित है। कहानी का आरंभ होता है मंदी की मार झेल रहे और अकाल ग्रस्त ओक्लाहोमा प्रांत के दृश्य से जहां फसल सूख रही है और खेत धूल होते जा रहे हैं। ऐसी विकट स्थिति में महिलाओं की नज़र अपने मर्दों पर टिकी थी कि वे इस कठिनाई को कैसे झेलते हैं; कहीं वे इस तनाव में टूट तो नहीं रहे। जब वे देखती हैं कि उनके आदमी मेहनत करने और जीवन यापन के लिए संघर्ष करने से पीछे नहीं हट रहे तो वे भी हिम्मत पाती हैं। स्टेईन्बैक ने इस संबंध में लिखा, "महिलाएं और बच्चे अपने अन्दर इस बात को जानते थे कि यदि उनके मर्द ’संपूर्ण’ रहेंगे तो वे फिर प्रत्येक दुर्भाग्य सहन कर सकते हैं।" यहां बात खुशी या संपन्नता या संतुष्टि क