बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, March 2, 2013

संतुष्टि तथा आनन्द


   अमेरिका के एक समाचारपत्र ने क्रिस्टोफर पार्केनिंग के लिए कहा कि वह "हमारे समय का महान गिटार वादक, जिसकी संगीत की समझ-बूझ तथा अपने वाद्य की प्रवीणता अनुपम है।" लेकिन एक समय वह भी था जब क्रिस्टोफर ने व्यावासायिक रूप में गिटार बजाना छोड़ दिया था। अपने गिटारवादन की ख्याति के उत्कृष्ट समय में, ३० वर्ष की आयु में उसने गिटार बजाने से सन्यास लिया, मोन्टाना प्रदेश में एक पशु-फार्म खरीदा और अपना खाली समय मछली मारने में बिताने लगा। लेकिन इससे उसे वह सन्तुष्टि नहीं मिली जिसकी उसे आशा थी और जिसके लिए उसने गिटार वादन छोड़ा था।

   फिर जब वह कैलिफोर्निया आया हुआ था तो उसे एक चर्च में आने का निमंत्रण मिला, जहाँ उसने प्रभु यीशु में पाप क्षमा तथा उद्धार का स्पष्ट सुसमाचार सुना। उसने इसके बारे में लिखा: "उस रात मैं जागा हुआ लेटा था, अपने पापों के बोध से टूटा हुआ था...मैंने एक बड़ा स्वार्थी जीवन व्यतीत किया था और उससे मुझे कोई संतुष्टि नहीं मिली थी...तब मैंने प्रभु यीशु को अपने जीवन में उद्धारकर्ता और स्वामी होकर आने के लिए कहा। मुझे स्मरण है कि ऐसा पहली बार था कि मैंने उससे कहा - ’प्रभु मेरे जीवन से आप जो भी करने को कहेंगे, मैं करूंगा।’ " परमेश्वर के वचन बाइबल में से क्रिस्टोफर का एक मनपसन्द पद है १ कुरिन्थियों १०:३१: "सो तुम चाहे खाओ, चाहे पीओ, चाहे जो कुछ करो, सब कुछ परमेश्वर की महीमा के लिये करो।" इसके बाद उसने फिर से अपना गिटार उठा लिया है, किंतु इस बार परमेश्वर की महिमा के लिए, और परमेश्वर ने उसे संसार में भी महिमित कर दिया।

   अपनी प्रत्येक सन्तान, अपने प्रत्येक विश्वासी को परमेश्वर कोई ना कोई गुण अथवा योग्यता वरदान के रूप में अवश्य देता है, और जब हम परमेश्वर के वरदान को परमेश्वर की महिमा और दूसरों की सहायता अथवा उन्न्ति के लिए प्रयोग करते हैं तो उससे ना केवल हमें संतुष्टि तथा आनन्द मिलता है, वरन परमेश्वर हमें भी महिमित कर देता है। - डेनिस फिशर


हमारे जीवनों का उद्देश्य परमेश्वर को महिमा देना है।

सो तुम चाहे खाओ, चाहे पीओ, चाहे जो कुछ करो, सब कुछ परमेश्वर की महीमा के लिये करो। - १ कुरिन्थियों १०:३१

बाइबल पाठ: १ कुरिन्थियों १०:३१-११:१
1 Corinthians 10:31 सो तुम चाहे खाओ, चाहे पीओ, चाहे जो कुछ करो, सब कुछ परमेश्वर की महीमा के लिये करो।
1 Corinthians 10:32 तुम न यहूदियों, न यूनानियों, और न परमेश्वर की कलीसिया के लिये ठोकर के कारण बनो।
1 Corinthians 10:33 जैसा मैं भी सब बातों में सब को प्रसन्न रखता हूं, और अपना नहीं, परन्तु बहुतों का लाभ ढूंढ़ता हूं, कि वे उद्धार पाएं।
1 Corinthians 11:1 तुम मेरी सी चाल चलो जैसा मैं मसीह की सी चाल चलता हूं।

एक साल में बाइबल: 
  • गिनती २६-२७ 
  • मरकुस ८:१-२१