बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, August 19, 2016

अनुसरण


   मेरे घर के निकट कुत्तों की एक प्रदर्शनी आयोजित हुई; उस प्रदर्शनी में अनेक तरह के कुत्ते थे और उनके मालिक उन कुत्तों की विशेषताएं भी दिखा रहे थे। एक विशेष जाति के कुत्ते ने, जिसका नाम ट्रेवर था, अपने स्वामी के निर्देषानुसार कई बातों को कर के दिखाया। अपने स्वामी के कहने पर ट्रेवर कुछ दूर तक दौड़ कर गया और तुरंत लौटकर वापस भी आया; उसने बाड़ के ऊपर से छलांगें लगाईं, सूँघकर भिन्न वस्तुओं को पहिचना। हर कार्य को करने के पश्चात ट्रेवर वापस आकर अपने स्वामी के कदमों पर बैठ जाता था, और अगले निर्देष की प्रतीक्षा करने लगता था और फिर निर्देष पाने पर ही वह स्वामी के कदमों से उसे पूरा करने के लिए हटता था।

   ट्रेवर की इस निर्देष पाने पर ही हिलने की बात ने मुझे उस समर्पण की याद दिलाई जो परमेश्वर अपने लोगों से चाहता है। जब परमेश्वर इस्त्राएलियों को मिस्त्र के दास्तव से निकाल कर वाचा किए हुए कनान देश की ओर लेकर चला, तो वह स्वयं ही बादल और अग्नि के खंबे के रूप में उनका मार्गदर्शक बनकर उनके आगे चला। यदि परमेश्वर की उपस्थिति का बादल ऊपर उठता था तो परमेश्वर के लोग आगे बढ़ते थे, और यदि बादल नीचे उतर जाता तो वे लोग उस स्थान पर शिविर लगा लेते थे और वहीं रहते थे जब तक कि बादल पुनः उठकर आगे ना बढ़ने लगे: "यहोवा की आज्ञा से वे अपने डेरें खड़े करते, और यहोवा ही की आज्ञा से वे प्रस्थान करते थे; जो आज्ञा यहोवा मूसा के द्वारा देता था उसको वे माना करते थे" (गिनती 9:23)। वे इस्त्राएली दिन-रात, इसी रीति का पालन करते रहे और चाहे जितना भी समय किसी एक स्थान पर बिताना पड़ता था, वे बिताते थे और परमेश्वर के निर्देष पर ही आगे कनान की ओर बढ़ते थे।

   ऐसा करके परमेश्वर उन इस्त्राएलियों की केवल परीक्षा ही नहीं ले रहा था, वरन उस वाचा किए हुए उत्तम कनान देश में पहुँचकर बसने और फलवन्त होने के लिए उनका प्रशिक्षण भी कर रहा था। आज परमेश्वर का अनुसरण करने की यही बात हम मसीही विश्वासियों के साथ भी है। परमेश्वर चाहता है कि हम उसके साथ निकट-संगति रखें, उसकी आशीषों के संभागी हों। परमेश्वर का वचन बाइबल हमें बताती है कि जो दीन और नम्र होकर उसका अनुसरण करते हैं, परमेश्वर उनके प्रति विश्वासयोग्य और प्रेमी रहता है, उनकी भलाई करने में लगा रहता है। - जेनिफर बेन्सन शुल्ट


परमेश्वर चाहता है कि उसकी सन्तान उसका अनुसरण करे।

भला होता कि उनका मन सदैव ऐसा ही बना रहे, कि वे मेरा भय मानते हुए मेरी सब आज्ञाओं पर चलते रहें, जिस से उनकी और उनके वंश की सदैव भलाई होती रहे! - व्यवस्थाविवरण 5:29

बाइबल पाठ: गिनती 9:15-23
Numbers 9:15 जिस दिन निवास जो साक्षी का तम्बू भी कहलाता है खड़ा किया गया, उस दिन बादल उस पर छा गया; और सन्ध्या को वह निवास पर आग सा दिखाई दिया और भोर तक दिखाई देता रहा। 
Numbers 9:16 और नित्य ऐसा ही हुआ करता था; अर्थात दिन को बादल छाया रहता, और रात को आग दिखाई देती थी। 
Numbers 9:17 और जब जब वह बादल तम्बू पर से उठ जाता तब इस्त्राएली प्रस्थान करते थे; और जिस स्थान पर बादल ठहर जाता वहीं इस्त्राएली अपने डेरे खड़े करते थे। 
Numbers 9:18 यहोवा की आज्ञा से इस्त्राएली कूच करते थे, और यहोवा ही की आज्ञा से वे डेरे खड़े भी करते थे; और जितने दिन तक वह बादल निवास पर ठहरा रहता उतने दिन तक वे डेरे डाले पड़े रहते थे। 
Numbers 9:19 और जब जब बादल बहुत दिन निवास पर छाया रहता तब इस्त्राएली यहोवा की आज्ञा मानते, और प्रस्थान नहीं करते थे। 
Numbers 9:20 और कभी कभी वह बादल थोड़े ही दिन तक निवास पर रहता, और तब भी वे यहोवा की आज्ञा से डेरे डाले पड़े रहते थे और फिर यहोवा की आज्ञा ही से प्रस्थान करते थे।
Numbers 9:21 और कभी कभी बादल केवल सन्ध्या से भोर तक रहता; और जब वह भोर को उठ जाता था तब वे प्रस्थान करते थे, और यदि वह रात दिन बराबर रहता तो जब बादल उठ जाता तब ही वे प्रस्थान करते थे। 
Numbers 9:22 वह बादल चाहे दो दिन, चाहे एक महीना, चाहे वर्ष भर, जब तक निवास पर ठहरा रहता तब तक इस्त्राएली अपने डेरों में रहते और प्रस्थान नहीं करते थे; परन्तु जब वह उठ जाता तब वे प्रस्थान करते थे। 
Numbers 9:23 यहोवा की आज्ञा से वे अपने डेरे खड़े करते, और यहोवा ही की आज्ञा से वे प्रस्थान करते थे; जो आज्ञा यहोवा मूसा के द्वारा देता था उसको वे माना करते थे।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 103-104
  • 1 कुरिन्थियों 2