बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, October 28, 2019

जड़ पकड़े



      हमारे मित्र नए घर में गए; वहाँ अपना बगीचा बनाते समय उन्होंने पड़ौसी के मकान के बाड़े के निकट एक सुगन्धित फूल वाला पौधा लगाया, जिस में फूल आने में पाँच वर्ष का समय लगना था। वे उस पौधे की देखभाल करते रहे और फिर दो दशकों से अधिक तक उसके सुगन्धित फूलों का आनन्द लिया; वे बड़े ध्यान से उस पौधे की छँटाई और देखभाल करते रहते थे। किन्तु अचानक ही वह पौधा मुर्झा कर मर गया; उनके पड़ौसी ने खरपतवार मारने वाले कुछ रसायन अपने बगीचे में डाले थे, जो बह कर इस पौधे की जड़ों तक भी आ गए और पौधा मर गया – ऐसा मेरे मित्रों को लगा। किन्तु उन्हें बहुत अचंभा हुआ जब अगले वर्ष, उस पौधे की जड़ों में से कुछ अंकुर फूट कर धरती के बाहर दिखाई देने लगे।

      परमेश्वर के वचन बाइबल में हम देखते हैं कि यिर्मयाह भविष्यद्वक्ता ने लोगों के परमेश्वर पर भरोसा रखने या उसके मार्गों की उपेक्षा करने को वृक्षों के फलते-फूलते होने या मुरझा कर मर जाने से चित्रित किया। वे लोग जो परमेश्वर की इच्छा का पालन करते हैं वे उन वृक्षों के समान बताए गए हैं जो अपनी जड़ें जल के निकट की भूमि में गहरी करते हैं (यिर्मयाह 17:8); परन्तु वे लोग जो मनमानी करते हैं, उन्हें मरुभूमि की झाड़ियों के समान कहा गया है (पद 5, 6)। भविष्यद्वक्ता लालसा करता है कि परमेश्वर के लोग उस सच्चे और जीवते परमेश्वर पर भरोसा करते रहें जिससे कि वे नदी के किनारे लगे वृक्षों के समान हों (पद 8)।

      हम जानते हैं कि प्रभु यीशु मसीह ने परमेश्वर पिता को किसान के समान बताया है (यूहन्ना 15:1); और हम उसमें पूर्ण भरोसा बनाए रख सकते हैं (यिर्मयाह 17:7)। जब हम परमेश्वर और उसके वचन में जड़ पकड़े रहेंगे, तो हम परमेश्वर पिता के लिए उत्तम और बने रहने फल भी ला सकेंगे। - एमी बाउचर पाई

जब हम परमेश्वर का अनुसरण करते हैं तो वह हमें बढ़ाता है।

तुम ने मुझे नहीं चुना परन्तु मैं ने तुम्हें चुना है और तुम्हें ठहराया ताकि तुम जा कर फल लाओ; और तुम्हारा फल बना रहे, कि तुम मेरे नाम से जो कुछ पिता से मांगो, वह तुम्हें दे। - यूहन्ना 15:16

बाइबल पाठ: यिर्मयाह 17: 5-8
Jeremiah 17:5 यहोवा यों कहता है, श्रापित है वह पुरुष जो मनुष्य पर भरोसा रखता है, और उसका सहारा लेता है, जिसका मन यहोवा से भटक जाता है।
Jeremiah 17:6 वह निर्जल देश के अधमूए पेड़ के समान होगा और कभी भलाई न देखेगा। वह निर्जल और निर्जन तथा लोनछाई भूमि पर बसेगा।
Jeremiah 17:7 धन्य है वह पुरुष जो यहोवा पर भरोसा रखता है, जिसने परमेश्वर को अपना आधार माना हो।
Jeremiah 17:8 वह उस वृक्ष के समान होगा जो नदी के तीर पर लगा हो और उसकी जड़ जल के पास फैली हो; जब घाम होगा तब उसको न लगेगा, उसके पत्ते हरे रहेंगे, और सूखे वर्ष में भी उनके विषय में कुछ चिन्ता न होगी, क्योंकि वह तब भी फलता रहेगा।

एक साल में बाइबल: 
  • यिर्मयाह 15-17
  • 2 तिमुथियुस 2