बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, June 8, 2016

बर्ताव


   सुप्रसिद्ध मसीही विश्वासी और लेखक सी. एस. ल्युईस ने अपनी जानी-मानी पुस्तक Mere Christianity में लिखा: "बचपन में मुझे अकसर दाँत में दर्द होता था, और मैं जानता था कि यदि मैं अपनी मां के पास गया तो वे मुझे कुछ ऐसा देंगी जिससे उस रात के लिए दर्द दब जाएगा और मैं सो सकूँगा। लेकिन मैं अपनी माँ के पास केवल तब ही जाता था जब दर्द बहुत बढ़ जाता था और सहना कठिन हो जाता था....क्योंकि मैं यह भी जानता था कि अगले दिन प्रातः ही मेरी माँ मुझे दाँतों के डॉक्टर के पास भी ले जाएंगी...मुझे दर्द से तुरंत राहत तो चाहिए होती थी लेकिन स्थाई राहत के लिए मेरे दाँतों को अन्दर गहराई से सही करवाने की भी आवश्यकता होती थी जो मैं नहीं करवाना चाहता था।"

   कुछ ऐसा ही हमारे साथ हमारे जीवनों में भी होता है: जब हम किसी समस्या में होते हैं, किसी बात को लेकर संघर्ष कर रहे होते हैं, तब अकसर हम तुरंत ही उसके निवारण के लिए परमेश्वर के पास नहीं जाते। हम जानते हैं कि परमेश्वर हमारी उस समस्या या संघर्ष का समाधान दे सकता है, लेकिन साथ ही हम यह भी जानते हैं कि वह केवल अस्थायी समाधानों से संतुष्ट नहीं होता, वह हमारे जीवनों में उस समस्या या संघर्ष की तह तक जाकर जड़ से उसका समाधान और निवारण करना चाहता है; और इस बात से हम डरते हैं क्योंकि ऐसा करने में वे बातें भी खुल कर सामने आ सकती हैं जिनका हम सामना नहीं करना चाहते या जिन्हें हम सबकी नज़रों से छिपाए या दबाए रखना चाहते हैं।

   ऐसे समयों में हमें अपने आप को यह स्मरण दिलाना चाहिए कि "तुम दुख को ताड़ना समझकर सह लो: परमेश्वर तुम्हें पुत्र जान कर तुम्हारे साथ बर्ताव करता है, वह कौन सा पुत्र है, जिस की ताड़ना पिता नहीं करता?" (इब्रानियों 12:7)। परमेश्वर का अनुशासन, चाहे हमें कष्टप्रद लगे, परन्तु वह बुद्धिमतापूर्ण, हमारी भलाई के लिए (रोमियों 8:28) और हमारे प्रति उसके प्रेम से भरा होता है। वह हमसे इतना प्रेम करता है कि हमें ऐसे ही अपनी समस्याओं और संघर्षों में पड़े देखना नहीं चाहता; वह हमारे स्वरूप को बदल कर हमारे उद्धारकर्ता प्रभु यीशु की समानता में लाना चाहता है (रोमियों 8:9)।

   हमारे प्रति परमेश्वर के प्रेम भरे बर्ताव तथा हर बात द्वारा हमारी भलाई करने के उद्देश्यों पर हम अपनी किसी भी भावना और भय से कहीं अधिक बढ़कर भरोसा कर सकते हैं। - पोह फैंग चिया


परमेश्वर के अनुशासन का हाथ उसके प्रेम और भलाई का हाथ होता है।

और हम जानते हैं, कि जो लोग परमेश्वर से प्रेम रखते हैं, उन के लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न करती है; अर्थात उन्हीं के लिये जो उस की इच्छा के अनुसार बुलाए हुए हैं। क्योंकि जिन्हें उसने पहिले से जान लिया है उन्हें पहिले से ठहराया भी है कि उसके पुत्र के स्वरूप में हों ताकि वह बहुत भाइयों में पहिलौठा ठहरे। - रोमियों 8:28-29

बाइबल पाठ: इब्रानियों 12:1-14
Hebrews 12:1 इस कारण जब कि गवाहों का ऐसा बड़ा बादल हम को घेरे हुए है, तो आओ, हर एक रोकने वाली वस्तु, और उलझाने वाले पाप को दूर कर के, वह दौड़ जिस में हमें दौड़ना है, धीरज से दौड़ें। 
Hebrews 12:2 और विश्वास के कर्ता और सिद्ध करने वाले यीशु की ओर ताकते रहें; जिसने उस आनन्द के लिये जो उसके आगे धरा था, लज्ज़ा की कुछ चिन्‍ता न कर के, क्रूस का दुख सहा; और सिंहासन पर परमेश्वर के दाहिने जा बैठा। 
Hebrews 12:3 इसलिये उस पर ध्यान करो, जिसने अपने विरोध में पापियों का इतना वाद-विवाद सह लिया कि तुम निराश हो कर हियाव न छोड़ दो। 
Hebrews 12:4 तुम ने पाप से लड़ते हुए उस से ऐसी मुठभेड़ नहीं की, कि तुम्हारा लोहू बहा हो। 
Hebrews 12:5 और तुम उस उपदेश को जो तुम को पुत्रों की नाईं दिया जाता है, भूल गए हो, कि हे मेरे पुत्र, प्रभु की ताड़ना को हलकी बात न जान, और जब वह तुझे घुड़के तो हियाव न छोड़। 
Hebrews 12:6 क्योंकि प्रभु, जिस से प्रेम करता है, उस की ताड़ना भी करता है; और जिसे पुत्र बना लेता है, उसको कोड़े भी लगाता है। 
Hebrews 12:7 तुम दुख को ताड़ना समझकर सह लो: परमेश्वर तुम्हें पुत्र जान कर तुम्हारे साथ बर्ताव करता है, वह कौन सा पुत्र है, जिस की ताड़ना पिता नहीं करता? 
Hebrews 12:8 यदि वह ताड़ना जिस के भागी सब होते हैं, तुम्हारी नहीं हुई, तो तुम पुत्र नहीं, पर व्यभिचार की सन्तान ठहरे! 
Hebrews 12:9 फिर जब कि हमारे शारीरिक पिता भी हमारी ताड़ना किया करते थे, तो क्या आत्माओं के पिता के और भी आधीन न रहें जिस से जीवित रहें। 
Hebrews 12:10 वे तो अपनी अपनी समझ के अनुसार थोड़े दिनों के लिये ताड़ना करते थे, पर यह तो हमारे लाभ के लिये करता है, कि हम भी उस की पवित्रता के भागी हो जाएं। 
Hebrews 12:11 और वर्तमान में हर प्रकार की ताड़ना आनन्द की नहीं, पर शोक ही की बात दिखाई पड़ती है, तौभी जो उसको सहते सहते पक्के हो गए हैं, पीछे उन्हें चैन के साथ धर्म का प्रतिफल मिलता है। 
Hebrews 12:12 इसलिये ढीले हाथों और निर्बल घुटनों को सीधे करो। 
Hebrews 12:13 और अपने पांवों के लिये सीधे मार्ग बनाओ, कि लंगड़ा भटक न जाए, पर भला चंगा हो जाए।
Hebrews 12:14 सब से मेल मिलाप रखने, और उस पवित्रता के खोजी हो जिस के बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा।

एक साल में बाइबल: 
  • 2 इतिहास 30-31
  • यूहन्ना 18:1-18