बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, May 19, 2019

तैयार



      बच्चों के पालन-पोषण से संबंधित अनेकों वेब-साईट्स पर एक वाक्याँश लिखा हुआ मिलता है, “बच्चे को मार्ग के लिए तैयार कीजिए, न कि मार्ग को बच्चे के लिए।” कहने का अभिप्राय है कि बजाए बच्चे के मार्ग से सभी कठिनाइयों और बाधाओं को निकालने का प्रयास करने के, हमें बच्चों को ऐसे बड़ा करना है कि वे उन सभी कठिनाइयों और बाधाओं का सामना करते हुए मार्ग पर सफलतापूर्वक आगे बढ़ते रहने वाले बन जाएँ। हमें उन्हें जीवन की परिस्तिथियों का सामना करना और उनपर विजयी होना सिखाना चाहिए।

      परमेश्वर के वचन बाइबल में भजनकार ने लिखा, “उन्हे हम उनकी सन्तान से गुप्त न रखेंगें, परन्तु होनहार पीढ़ी के लोगों से, यहोवा का गुणानुवाद और उसकी सामर्थ और आश्चर्यकर्मों का वर्णन करेंगें। उसने तो याकूब में एक चितौनी ठहराई, और इस्त्राएल में एक व्यवस्था चलाई, जिसके विषय उसने हमारे पितरों को आज्ञा दी, कि तुम इन्हे अपने अपने लड़के बालों को बताना; कि आने वाली पीढ़ी के लोग, अर्थात जो लड़के बाले उत्पन्न होने वाले हैं, वे इन्हे जानें; और अपने अपने लड़के बालों से इनका बखान करने में उद्यत हों, जिस से वे परमेश्वर का आसरा रखें” (भजन 78:4-6)। ऐसा करने का उद्देश्य है कि वे “ईश्वर के बड़े कामों को भूल न जाएं, परन्तु उसकी आज्ञाओं का पालन करते रहें” (पद 7)।

      उस प्रबल आत्मिक प्रभाव के विषय विचार कीजिए जो औरों के आत्मिक जीवनों से हमारे जीवन पर हुआ – उनके व्यवहार और जीवन शैली के द्वारा। उनके कथन और आचरण ने हमारे ध्यान को खींचा, और हमारे अन्दर भी उनके समान प्रभु यीशु का अनुयायी होने की लालसा जागृत की।

      यह एक अद्भुत विशेषाधिकार और दायित्व है कि हम मसीही विश्वासी अगली पीढ़ी के लोगों से परमेश्वर के वचन और योजनाओं को बाँटें, उन्हें प्रभु यीशु मसीह और उसमें लाए गए विश्वास के द्वारा पापों की क्षमा तथा उद्धार के सुसमाचार के बारे में बताएँ। उनके जीवन मार्ग में आगे चाहे जो भी आए, हम प्रभु परमेश्वर के वचन और सामर्थ्य से उन्हें निर्भीक और दृढ़ होकर प्रत्येक परिस्तिथि का सामना करने के लिए तैयार करें। - डेविड मैक्कैस्लैंड

अपने जीवन की कथनी और करनी के द्वारा 
लोगों को प्रभु यीशु मसीह का अनुयायी बनने
 और जीवन मार्ग पर अग्रसर रहने के लिए तैयार करें।

इसलिये हे मेरे पुत्र, तू उस अनुग्रह से जो मसीह यीशु में है, बलवन्‍त हो जा। और जो बातें तू ने बहुत गवाहों के साम्हने मुझ से सुनी हैं, उन्हें विश्वासी मनुष्यों को सौंप दे; जो औरों को भी सिखाने के योग्य हों। - 2 तिमुथियुस 2:1-2

बाइबल पाठ: भजन 78:1-8
Psalms 78:1 हे मेरे लोगों, मेरी शिक्षा सुनो; मेरे वचनों की ओर कान लगाओ!
Psalms 78:2 मैं अपना मूंह नीतिवचन कहने के लिये खोलूंगा; मैं प्राचीन काल की गुप्त बातें कहूंगा,
Psalms 78:3 जिन बातों को हम ने सुना, और जान लिया, और हमारे बाप दादों ने हम से वर्णन किया है।
Psalms 78:4 उन्हे हम उनकी सन्तान से गुप्त न रखेंगें, परन्तु होनहार पीढ़ी के लोगों से, यहोवा का गुणानुवाद और उसकी सामर्थ और आश्चर्यकर्मों का वर्णन करेंगें।
Psalms 78:5 उसने तो याकूब में एक चितौनी ठहराई, और इस्त्राएल में एक व्यवस्था चलाई, जिसके विषय उसने हमारे पितरों को आज्ञा दी, कि तुम इन्हे अपने अपने लड़के बालों को बताना;
Psalms 78:6 कि आने वाली पीढ़ी के लोग, अर्थात जो लड़के बाले उत्पन्न होने वाले हैं, वे इन्हे जानें; और अपने अपने लड़के बालों से इनका बखान करने में उद्यत हों, जिस से वे परमेश्वर का आसरा रखें,
Psalms 78:7 और ईश्वर के बड़े कामों को भूल न जाएं, परन्तु उसकी आज्ञाओं का पालन करते रहें;
Psalms 78:8 और अपने पितरों के समान न हों, क्योंकि उस पीढ़ी के लोग तो हठीले और झगड़ालू थे, और उन्होंने अपना मन स्थिर न किया था, और न उनकी आत्मा ईश्वर की ओर सच्ची रही।

एक साल में बाइबल:  
  • 1 इतिहास 7-9
  • यूहन्ना 6:22-44