बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, May 5, 2016

श्रेय


   क्रिस लैंगन का IQ (बुद्धिमता-स्तर) एल्बर्ट आईन्सटाईन से भी अधिक है। मुस्तफा इस्माईल की बाँहों (biceps) का घेरा 31 इंच का है और वह 600 पौंड वज़न उठा सकता है। बिल गेट्स की संपत्ति का अनुमान अरबों डॉलर है। जिनके पास कोई अद्भुत प्रतिभा या उपलब्धि है, वे अपने बारे में आवश्यकता से अधिक बढ़कर सोच सकते हैं। लेकिन अपनी उपलब्धियों का श्रेय लेने के लिए हमें बहुत ही बुद्धिमान, या ताकतवर, या धनवान होना आवश्यक नहीं है। उपलब्धि चाहे कैसी भी हो, चाहे कितनी भी बड़ी अथवा छोटी हो, उसके साथ एक प्रश्न सदा ही जुड़ा रहता है - उसका श्रेय किसका है?

   परमेश्वर ने अपने लोगों, इस्त्राएलियों से यिर्मयाह भविष्यद्वक्ता द्वारा कहा: "यहोवा यों कहता है, बुद्धिमान अपनी बुद्धि पर घमण्ड न करे, न वीर अपनी वीरता पर, न धनी अपने धन पर घमण्ड करे; परन्तु जो घमण्ड करे वह इसी बात पर घमण्ड करे, कि वह मुझे जानता और समझता है, कि मैं ही वह यहोवा हूँ, जो पृथ्वी पर करुणा, न्याय और धर्म के काम करता है; क्योंकि मैं इन्हीं बातों से प्रसन्न रहता हूँ" (यिर्मयाह 9:23-24)। परमेश्वर चाहता था कि उसके लोग उसे और उसकी उत्तमता को अन्य किसी भी बात से अधिक बढ़कर जानें, सर्वश्रेष्ठ मानें।
   यदि हम अपनी प्रशंसा को अपने अहम को फुलाने देते हैं तो हम भूल जाते हैं कि परमेश्वर का वचन बाइबल हमें सिखाती है कि "क्योंकि हर एक अच्छा वरदान और हर एक उत्तम दान ऊपर ही से है, और ज्योतियों के पिता की ओर से मिलता है, जिस में न तो कोई परिवर्तन हो सकता है, ओर न अदल बदल के कारण उस पर छाया पड़ती है" (याकूब 1:17)। इसलिए हर बात के लिए परमेश्वर को महिमा, आदर और धन्यवाद देना भला है क्यों कि ऐसा करने से ना केवल हम घमंड में पड़ने से बचे रहते हैं, वरन इसलिए भी क्योंकि वास्तविकता में परमेश्वर को ही सारा श्रेय जाता है: "वह तो एसे बड़े काम करता है जिनकी थाह नहीं लगती, और इतने आश्चर्यकर्म करता है, जो गिने नहीं जाते" (अय्यूब 5:9)। - जेनिफर बेन्सन शुल्ट


हमें परमेश्वर को महिमा देने के लिए सृजा गया है।

परन्तु तू अपने परमेश्वर यहोवा को स्मरण रखना, क्योंकि वही है जो तुझे सम्पति प्राप्त करने का सामर्थ्य इसलिये देता है, कि जो वाचा उसने तेरे पूर्वजों से शपथ खाकर बान्धी थी उसको पूरा करे, जैसा आज प्रगट है। - व्यवस्थाविवरण 8:18

बाइबल पाठ: भजन 49
Psalms 49:1 हे देश देश के सब लोगों यह सुनो! हे संसार के सब निवासियों, कान लगाओ! 
Psalms 49:2 क्या ऊंच, क्या नीच क्या धनी, क्या दरिद्र, कान लगाओ! 
Psalms 49:3 मेरे मुंह से बुद्धि की बातें निकलेंगी; और मेरे हृदय की बातें समझ की होंगी। 
Psalms 49:4 मैं नीतिवचन की ओर अपना कान लगाऊंगा, मैं वीणा बजाते हुए अपनी गुप्त बात प्रकाशित करूंगा।
Psalms 49:5 विपत्ति के दिनों में जब मैं अपने अड़ंगा मारने वालों की बुराइयों से घिरूं, तब मैं क्यों डरूं? 
Psalms 49:6 जो अपनी सम्पत्ति पर भरोसा रखते, और अपने धन की बहुतायत पर फूलते हैं, 
Psalms 49:7 उन में से कोई अपने भाई को किसी भांति छुड़ा नहीं सकता है; और न परमेश्वर को उसकी सन्ती प्रायश्चित्त में कुछ दे सकता है, 
Psalms 49:8 (क्योंकि उनके प्राण की छुड़ौती भारी है वह अन्त तक कभी न चुका सकेंगे)। 
Psalms 49:9 कोई ऐसा नहीं जो सदैव जीवित रहे, और कब्र को न देखे।
Psalms 49:10 क्योंकि देखने में आता है, कि बुद्धिमान भी मरते हैं, और मूर्ख और पशु सरीखे मनुष्य भी दोनों नाश होते हैं, और अपनी सम्पत्ति औरों के लिये छोड़ जाते हैं। 
Psalms 49:11 वे मन ही मन यह सोचते हैं, कि उनका घर सदा स्थिर रहेगा, और उनके निवास पीढ़ी से पीढ़ी तक बने रहेंगे; इसलिये वे अपनी अपनी भूमि का नाम अपने अपने नाम पर रखते हैं। 
Psalms 49:12 परन्तु मनुष्य प्रतिष्ठा पाकर भी स्थिर नहीं रहता, वह पशुओं के समान होता है, जो मर मिटते हैं।
Psalms 49:13 उनकी यह चाल उनकी मूर्खता है, तौभी उनके बाद लोग उनकी बातों से प्रसन्न होते हैं। 
Psalms 49:14 वे अधोलोक की मानों भेड़-बकरियां ठहराए गए हैं; मृत्यु उनका गड़रिया ठहरी; और बिहान को सीधे लोग उन पर प्रभुता करेंगे; और उनका सुन्दर रूप अधोलोक का कौर हो जाएगा और उनका कोई आधार न रहेगा। 
Psalms 49:15 परन्तु परमेश्वर मेरे प्राण को अधोलोक के वश से छुड़ा लेगा, क्योंकि वही मुझे ग्रहण कर अपनाएगा।
Psalms 49:16 जब कोई धनी हो जाए और उसके घर का वैभव बढ़ जाए, तब तू भय न खाना। 
Psalms 49:17 क्योंकि वह मर कर कुछ भी साथ न ले जाएगा; न उसका वैभव उसके साथ कब्र में जाएगा। 
Psalms 49:18 चाहे वह जीते जी अपने आप को धन्य कहता रहे, (जब तू अपनी भलाई करता है, तब वे लोग तेरी प्रशंसा करते हैं) 
Psalms 49:19 तौभी वह अपने पुरखाओं के समाज में मिलाया जाएगा, जो कभी उजियाला न देखेंगे। 
Psalms 49:20 मनुष्य चाहे प्रतिष्ठित भी हों परन्तु यदि वे समझ नहीं रखते, तो वे पशुओं के समान हैं जो मर मिटते हैं।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 राजा 19-20
  • लूका 23:1-25